Sukanya Samriddhi Yojana:सुकन्या समृद्धि योजना 2024

Sukanya Samriddhi Yojana
Contents hide
1 Sukanya Samriddhi Yojana:सुकन्या समृद्धि योजना 2024 ब्याज दर हुई 8.2 प्रतिशत,आवेदन,पात्रता,लाभ एवं नियम

Sukanya Samriddhi Yojana:सुकन्या समृद्धि योजना 2024 ब्याज दर हुई 8.2 प्रतिशत,आवेदन,पात्रता,लाभ एवं नियम

Sukanya Samriddhi Yojana यह योजना भारत सरकार द्वारा बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान के तहत शुरू की गई है और इसका नाम “सुकन्या समृद्धि योजना” है। यह एक छोटी बचत योजना है जिसके अंतर्गत 10 वर्ष से कम आयु की बेटियों के माता-पिता उनके भविष्य को सुरक्षित करने के लिए निवेश कर सकते हैं। इसमें कम से कम 250 रुपए और ज्यादा से ज्यादा 1.5 लाख रुपए तक का निवेश किया जा सकता है।

यह योजना केवल बेटियों के लिए है और इसका उद्देश्य बेटियों के भविष्य को सुरक्षित बनाना है, जिसमें उनकी शिक्षा, उच्च शिक्षा, और विवाह जैसे खर्चों के लिए धन इकट्ठा किया जा सकता है। इस योजना के तहत 15 साल तक निवेश किया जा सकता है और इससे बेटी के भविष्य में होने वाले खर्चों का सही समर्थन किया जा सकता है। इसमें माता-पिता अभिभावक बच्चियों के नाम पर एक विशेष खाता खोल सकते हैं।

आप अपनी बेटी के नाम से सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करके उसके भविष्य को उज्जवल बना सकते हैं। इस आर्टिकल में हम आपको Sukanya Samriddhi Yojana से संबंधित संपूर्ण जानकारी प्रदान करेंगे।

Sukanya Samriddhi Yojana क्या है ?

सुकन्या समृद्धि योजना बेटियों के नाम पर निवेश के लिए एक सुरक्षित विकल्प प्रदान करती है। इस योजना के तहत आप सालाना 10,000 रुपए जमा कर सकते हैं और मैच्योरिटी के समय इस राशि में 4.48 लाख रुपए तक पहुंच सकती है। यह योजना देश की बेटियों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए बनाई गई है और कोई भी परिवार के सदस्य बेटी के नाम पर खाता खोल सकता है।

इसके अलावा, इस योजना में निवेश करने से आपको ऊंचा ब्याज भी मिलेगा और सरकार द्वारा समर्थित होने के कारण यह 100% सुरक्षित है। आप नियमित निवेश करके इस योजना के तहत लंबी अवधि में मैच्योरिटी पर बड़ा पैसा जुटा सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना का खाता आप किसी भी नजदीकी पोस्ट ऑफिस या अधिकृत बैंक से खोल सकते हैं।

Sukanya Samriddhi Yojana के लिए ब्याज दर बढ़कर 8.2 प्रतिशत

सरकार ने नए साल के मौके पर सुकन्या समृद्धि योजना के निवेशकों के लिए एक बड़ी सौगात प्रदान की है। सरकार ने नए वित्त वर्ष 2023-24 की चौथी तिमाही के लिए सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने वालों के लिए ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है। इस योजना के तहत पहले निवेशकों को 8 फीसदी ब्याज मिलता था, लेकिन अब इसे बढ़ाकर 8.2 फीसदी कर दिया गया है।

यह दूसरी बार है जब इस योजना के लिए सरकार ने ब्याज दर में वृद्धि की है। इससे बेटियों के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए निवेशकों को अधिक ब्याज प्राप्त होगा। यह बढ़ोतरी पिछली तिमाही में हुई ब्याज दर 7.6 से 8 फीसदी में की गई है। इससे सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने वालों को अधिक आदान-प्रदान होगा।

Sukanya Samriddhi Yojana के उद्देश्य

सुकन्या समृद्धि योजना का मुख्य उद्देश्य लड़कियों की शिक्षा को प्रोत्साहित करना है और उनकी शादी पर आने वाले खर्चों को सुरक्षित करना है। इस योजना के तहत बच्चियों के लिए एक खाता खोला जा सकता है, जिसमें उनके पेरेंट्स या नाना-नानी आपत्ति के समय नियमित रूप से निवेश कर सकते हैं। यह निवेश उनके शिक्षा और विवाह के लिए सामग्री की वितरण में मदद करने के लिए हो सकता है।

इस योजना के अंतर्गत, सरकार द्वारा निर्धारित ब्याज दर के साथ निवेश करने पर एक सीमित समय के बाद एक बड़ी राशि जमा की जा सकती है, जो बेटी के भविष्य के लिए उपयुक्त हो सकती है। यह योजना बेटियों के लिए एक सुरक्षित और लाभकारी निवेश का स्रोत प्रदान करने का प्रयास है।

  1. खाता खोलने की आयु: इस योजना के अंतर्गत खाता खोलने के लिए बेटी की आयु 10 वर्ष से कम होनी चाहिए।
  2. निवेश की अवधि: यह योजना 15 वर्ष की अवधि के लिए है, जिसके बाद खाता में जमा की गई राशि उत्तराधिकारी बेटी को मिलती है।
  3. निवेश राशि: इस योजना में नियमित रूप से निवेश की जा सकने वाली राशि की न्यूनतम सीमा 250 रुपए है, जबकि अधिकतम सीमा 1.5 लाख रुपए है।
  4. ब्याज दर: इस योजना के अंतर्गत ब्याज दर समय के साथ बदलती रहती है और इसका मौजूदा ब्याज दर उच्चतम 8.2% है (2023-24 तिमाही के लिए)।
  5. रिडीम्प्शन की अनुमति: इस योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष रिडीम्प्शन की अनुमति है, जिससे बेटी के लिए आवश्यक खर्चों के लिए राशि उपलब्ध होती है।

इस योजना के माध्यम से सरकार बेटियों की शिक्षा और भविष्य को सुरक्षित करने का प्रयास कर रही है और परिवारों को इसमें निवेश करने के लिए प्रेरित कर रही है।

Sukanya Samriddhi Yojana की जानकारी

योजना का नाम Sukanya Samriddhi Yojana
शुरू की गई केंद्र सरकार द्वारा
लाभार्थी 0 से 10 वर्ष की बालिकाएं
उद्देश्य बेटियों के भविष्य को बेहतर बनाना
निवेश राशि न्यूनतम 250, अधिकतम 1.5 लाख
निवेश अवधि 15 वर्ष तक
ब्याज दर 8% प्रतिवर्ष
साल

अधिकारी वेबसाइट

2024

यहाँ क्लिक करे 

इन योजना के बारे में भी जानिए

Sukanya Samriddhi Yojana 1000 रूपये जमा करने पर कितना रूपये मिलेगे ?

वर्तमान में सुकन्या समृद्धि योजना खाते पर 8.2% ब्याज मिल रहा है। यानि यदि कोई माता – पिता अपनी बेटी का नवंबर 2024 समृद्धि खाता खुलवाते हैं, और उस खाते में प्रति माह 1000 रुपए जमा करते है, तो आपको मेट्योरिटी पर कुल 5,80,413.90 रुपए प्राप्त होंगें।

प्रति माह जमा ₹1000/- रूपये की राशि का एक वर्ष में कुल जमा 12000₹₹12000
इस प्रकार 15 वर्ष में कुल जमा राशि ₹180000/-
21 वर्ष तक जमा पर कुल ब्याज ₹329000/-
परिपक्वता (Maturity) पर मिलने वाला कुल पैसा ₹509212/-

 

नोट -2022 के तहत 1000 रूपये जमा करने पर ब्याज 7.6%

Sukanya Samriddhi Yojana 2000 मासिक जमा करने पर 

प्रति माह जमा ₹2000/- रूपये की राशि का एक वर्ष में कुल जमा ₹24000
इस प्रकार 15 वर्ष में कुल जमा राशि ₹3,60,000/-
21 वर्ष तक जमा पर कुल ब्याज ₹6;58,425/-
परिपक्वता (Maturity) पर मिलने वाला कुल पैसा ₹10,18,425/-

Sukanya Samriddhi Yojana में बेहतर ब्याज, साथ में टैक्स फ्री

सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने पर 8% का ब्याज मिलता है, जो सालाना जुलाई से सितंबर 2023 की तिमाही के लिए मिलने वाले ब्याज दर है। इस योजना को टैक्स फ्री योजना माना जाता है और इसमें ट्रिपल टैक्स छूट होती है:

  1. 80C के तहत छूट: सुकन्या समृद्धि योजना में 1.5 लाख रुपए तक सालाना निवेश करने पर इनकम टैक्स एक्ट के क्षेत्र 80C के तहत छूट मिलती है।
  2. रिटर्न पर टैक्स मुक्त: इस योजना में मिलने वाले रिटर्न पर कोई टैक्स नहीं लगता है।
  3. मैच्योरिटी पर टैक्स मुक्त: जब योजना की मैच्योरिटी (18 वर्ष की आयु तक) होती है और उसे मिलने वाली राशि निकासी जाती है, तो वह राशि पूरी तरह से टैक्स मुक्त होती है।

इसके अलावा, सुकन्या समृद्धि योजना एक सुरक्षित और लाभकारी निवेश का स्रोत प्रदान करने का प्रयास है, जिससे बेटियों के भविष्य को आर्थिक रूप से सुरक्षित बनाया जा सकता है।

Sukanya Samriddhi Yojana मैच्योरिटी पीरियड

यह योजना बेटियों के लिए आर्थिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए एक अच्छी योजना है जिसमें निवेशकों को बच्चों के भविष्य की दिशा में आर्थिक सहायता मिलती है। नीचे आपके बताए गए मुख्य पॉइंट्स को संक्षेप में देखा जा सकता है:

  1. मैच्योरिटी अवधि: Sukanya Samriddhi Yojana की मैच्योरिटी अवधि 21 साल की है, जिससे बेटी योजना के निवेश का पूरा लाभ उठा सकती है।
  2. निवेश की अवधि: योजना के अंतर्गत निवेश की अवधि 15 साल है, और यह 6 साल तक जारी रहती है।
  3. जमा पर बचे 6 साल में ब्याज: निवेश बंद होने के 6 साल बाद सुकन्या समृद्धि खाता मैच्योर हो जाता है और इसमें बचे 6 साल तक ब्याज मिलता रहता है, जिसमें कंपाउंडिंग का भी लाभ होता है।
  4. बेटी की आयु और मैच्योरिटी अमाउंट: मैच्योरिटी अमाउंट बेटी की आयु के आधार पर तय होता है, जिससे उसे उसकी उम्र के अनुसार विभिन्न हो सकता है।
  5. बेटी की स्वायत्तता: बेटी 18 साल की आयु में अपना खुद का अकाउंट हैंडल कर सकती है और इसे स्वतंत्रता से प्रबंधित कर सकती है।

इस योजना का मुख्य उद्देश्य बेटियों के भविष्य को सुरक्षित करना है और उन्हें आर्थिक स्वतंत्रता प्रदान करने में सहायता करना है।

Sukanya Samriddhi Yojana में अधिकतम जमा राशि

यह योजना एक उत्कृष्ट तरीके से बेटियों के भविष्य को सुरक्षित करने का साधन है। आपके द्वारा बताई गई कुछ महत्वपूर्ण बातें इस प्रकार हैं:

  1. आयु सीमा: Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत 10 साल से कम आयु की बेटियों के लिए पोस्ट ऑफिस में खाता खोला जा सकता है, जिससे लोग अपनी नवजात बेटियों के लिए शीघ्र निवेश कर सकते हैं।
  2. एकाधिक खाता: योजना के तहत जुड़वा बच्चों के लिए अलग-अलग खाते खोलने की सुविधा है, जो परिवारों को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार निवेश करने की लेन-देन में सुविधा प्रदान करती है।
  3. निवेश की रकम की सीमा:  इस योजना में एक वित्त वर्ष के दौरान न्यूनतम 250 रुपए जमा करना आवश्यक है, जबकि सालाना अधिकतम 1.5 लाख रुपए जमा किए जा सकते हैं।
  4. नियमित निवेश की संभावना:  यदि कोई व्यक्ति हर महीने 12,500 रुपए जमा करता है, तो उसका सालाना निवेश 1.5 लाख रुपए तक हो सकता है।
  5. मैच्योरिटी पर राशि:  यदि कोई व्यक्ति हर साल सुकन्या समृद्धि योजना में 1,11,400 रुपए का निवेश करता है, तो मैच्योरिटी पर 50 लाख रुपए की राशि मिल सकती है।

यह सुचना लोगों को योजना के लाभों और निवेश की प्रक्रिया के बारे में समझाने में मदद करेगी

Sukanya Samriddhi Yojana में निवेश कैसे करें?

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 15 वर्ष तक पैसा जमा किया जा सकता है। यदि आपकी मासिक किस्त है, तो साल में 12 न्यूनतम किस्तें जमा करनी होंगी और सालाना में एक किस्त जमा करनी होगी। इस योजना के अंतर्गत, आप अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस या किसी भी बैंक ब्रांच के माध्यम से निवेश कर सकते हैं। आप इस योजना के तहत निम्नलिखित साधनों के माध्यम से आसानी से पैसे जमा कर सकते हैं।

  • नगद
  • चेक
  • डिमांड ड्राफ्ट
  • ऑनलाइन ई ट्रांसफर (यदि उपलब्ध हो)

Sukanya Samriddhi Yojana की पेशकश करने वाले बैंक

“सुकन्या समृद्धि योजना” में नए अकाउंट के लिए आप आवेदन फार्म पोस्ट ऑफिस या इसमें शामिल निजी क्षेत्र के बैंक से प्राप्त कर सकते हैं। इसके अलावा, आप आरबीआई की वेबसाइट और बैंकों की वेबसाइट से सुकन्या समृद्धि योजना के लिए नया अकाउंट आवेदन फॉर्म भी डाउनलोड कर सकते हैं। सुकन्या समृद्धि योजना की पेशकश करने वाले बैंकों की सूची नीचे दी गई है जो कि निम्न प्रकार है:

1. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (State Bank of India – SBI)
2. पंजाब नैशनल बैंक (Punjab National Bank – PNB)
3. केनरा बैंक (Canara Bank)
4. इंडियन बैंक (Indian Bank)
5. आइसीसी बैंक (ICICI Bank)
6. हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड (HDFC)
7. एक्सिस बैंक (Axis Bank)
8. बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda)
9. इंडसिंड बैंक (IDBI Bank)
10. कोर्पोरेशन बैंक (Corporation Bank)

यह सूची बदल सकती है, इसलिए आपको स्थानीय बैंक या पोस्ट ऑफिस से सीधे संपर्क करके भी योजना के लिए आवेदन करने की सटीक जानकारी प्राप्त करनी चाहिए।

Sukanya Samriddhi Yojana के लाभ एवं विशेषताएं

इस योजना के कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएँ निम्नलिखित हैं:

    1. आयु सीमा: सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत 10 वर्ष से कम आयु की बालिकाओं के नाम पर खाता खोला जा सकता है।
    2. निवेश की रकम: एक वित्त वर्ष में न्यूनतम 250 रुपए और अधिकतम 1.5 लाख रुपए की रकम का निवेश किया जा सकता है।
    3. गारंटी रिटर्न: सुकन्या समृद्धि योजना सरकारी योजना है जिससे निवेशकों को गारंटी रिटर्न प्राप्त होता है।
    4. खाता ट्रांसफर: सुकन्या समृद्धि अकाउंट को देश के एक हिस्से से दूसरे हिस्से में ट्रांसफर किया जा सकता है।
    5. ब्याज का लाभ: मैच्योरिटी के बाद भी खाता बंद नहीं किया जाता है और इस पर ब्याज का लाभ मिलता रहता है।
    6. शिक्षा के लिए निकासी: बालिका की आयु 18 वर्ष होने पर उसकी शिक्षा के लिए 50% राशि निकालने का विकल्प उपलब्ध है, जो एक महत्वपूर्ण लाभ है।
    7. गोद ली गई पुत्री के लिए निवेश: इस योजना के तहत गोद ली हुई बेटी के लिए भी निवेश किया जा सकता है।
    8. 15 वर्ष तक प्रीमियम राशि जमा करना: सुकन्या समृद्धि योजना में 15 वर्ष तक प्रीमियम या नियमित राशि जमा करनी होती है । इसमें 15 वर्षों तक निवेश करने की अनुमति होती है, लेकिन यह योजना 21 वर्षों के बाद मैच्योर होती है।
    9. 8.2% की ब्याज दर: Sukanya Samriddhi Yojana में ब्याज दर विभिन्न वित्त वर्षों में बदलती रहती है। वित्त वर्ष 2024 में 8.2% की दर से ब्याज दी जा रही है, लेकिन इसमें परिवर्तन हो सकता है।
    10. 18 वर्ष के बाद बालिका का अकाउंट स्वयं मैनेज कर सकती है: यह सही है कि सुकन्या समृद्धि योजना में बालिका 18 वर्ष की होने के बाद अपने खाते को स्वयं मैनेज कर सकती है।

कृपया ध्यान दें कि योजना के नियम बदल सकते हैं, इसलिए सबसे अच्छा है कि आप स्थानीय पोस्ट ऑफिस या बैंक से सीधे जानकारी प्राप्त करें।

Sukanya Samriddhi Yojana के लिए पात्रता

  1. खाता केवल बालिका के नाम पर: सुकन्या समृद्धि योजना के अंतर्गत खाता केवल बालिका के नाम पर ही खोला जा सकता है।
  2. बालिका की आयु 10 वर्ष से कम होनी चाहिए: खाता खोलते समय बालिका की आयु 10 वर्ष से अधिक और कम से कम होनी चाहिए।
  3. केवल दो अकाउंट प्रति परिवार: Sukanya Samriddhi Yojana के तहत एक परिवार को केवल दो अकाउंट खोलने की अनुमति होगी।
  4. एक बालिका के एक से अधिक अकाउंट नहीं खोले जा सकते: एक बालिका के नाम पर केवल एक सुकन्या समृद्धि अकाउंट ही खोला जा सकता है।
  5. तीन बेटियों का खाता खुलवाया जा सकता है: केवल दो बालिकाओं के पहले बेटी होने के बाद, जब दूसरी बार जुड़वा बेटियां होती हैं, तब तीन बेटियों के लिए सुकन्या समृद्धि योजना का खाता खुलवाया जा सकता है।

इन नियमों का पालन करने से लोग सुकन्या समृद्धि योजना का उचित रूप से उपयोग कर सकते हैं और बालिकाओं के भविष्य के लिए वित्तीय सुरक्षा में मदद कर सकते हैं।

Sukanya Samriddhi Yojana के दस्तावेज़

  • बालिका का जन्म प्रमाण पत्र
  • निवास प्रमाण पत्र
  • माता-पिता का पैन कार्ड, आधार कार्ड
  • मोबाइल नंबर

Sukanya Samriddhi Yojana 2024 के तहत आवेदन कैसे करें?

  1. नजदीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक ब्रांच में जाएं: सुकन्या समृद्धि योजना में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपको नजदीकी पोस्ट ऑफिस या बैंक ब्रांच में जाना होगा।
  2. आवेदन फॉर्म प्राप्त करें: वहां जाकर आपको Sukanya Samriddhi Yojana के अंतर्गत निवेश करने हेतु आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।
  3. माता-पिता/अभिभावक की जानकारी दर्ज करें: फॉर्म भरते समय आपको बालिका की ओर से अकाउंट खोलने वाले माता-पिता/अभिभावक की जानकारी दर्ज करनी होगी।
  4. जरूरी दस्तावेज संलग्न करें: सभी जानकारी दर्ज करने के बाद, आपको जरूरी दस्तावेजों की कॉपी के साथ फॉर्म को संलग्न करना होगा।
  5. आवेदन जमा करें: सारी प्रक्रिया पूर्ण करने के बाद, आपको आवेदन फॉर्म प्रीमियम राशि के साथ पोस्ट ऑफिस या बैंक में जमा कर देना होगा।

इस तरह, लोग इस Sukanya Samriddhi Yojana में आसानी से आवेदन कर सकते हैं और अपनी बेटियों के भविष्य के लिए वित्तीय सुरक्षा सुनिश्चित कर सकते हैं।

सारांश (Summay)

तो दोस्तों, हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया कि कैसे आप (Sukanya Samriddhi Yojana:सुकन्या समृद्धि योजना 2024) की सभी जानकारी को विस्तार पूर्वक बता दिया है।यदि आपको जानकारी पसंद आई हो तो आप हमें मैसेज करके बता सकते हैं और इसके अलावा यदि आपको कोई भी समस्या या योजना से जुड़े सवालों के जवाब जानने हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं।हमारी टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश जरूर करेगी।

ध्यान दें :– ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट सरकारी योजनाये के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted By – Surendra Jain

 

FQAs

Sukanya Samriddhi Yojana का क्या फायदा है?

सुकन्या समृद्धि योजना में 1,50,000 रुपये तक की छूट का लाभ होता है जो आपको आयकर में छूट प्रदान करता है। इसका मतलब है कि जब आप इस योजना में निवेश करते हैं और आपकी जमा हुई राशि साल के अंतर्गत 1,50,000 रुपये तक होती है, तो इसका आपकी आय पर कोई टैक्स नहीं होता है।

क्या मैं Sukanya Samriddhi Yojana में 10 लाख जमा कर सकता हूं?

नहीं, सुकन्या समृद्धि योजना के तहत एक वित्त वर्ष में अधिकतम 1,50,000 रुपये ही जमा किए जा सकते हैं। इसलिए, आप 10 लाख रुपये से अधिक नहीं जमा कर सकते हैं। यह योजना छोटी आयु की बालिकाओं के लिए तैयार की गई है और इसका मुख्य उद्देश्य उनकी शिक्षा और विवाह के लिए निधि जमा करना है, इसमें अधिक निवेश सीमा नहीं है।

मैं अपना सुकन्या खाता कब निकाल सकता हूं?

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत, जब बेटी 18 वर्ष की हो जाती है, तो उसे अपने खाते से शेष राशि का 50% तक निकालने का अधिकार होता है। यह निकासी शिक्षा या शादी के उद्देश्य के लिए की जा सकती है। इसे “मैच्योरिटी एज” कहा जाता है और इसका समय 21 वर्ष की अधिकतम परिपक्वता अवधि के अंतर्गत होता है।

Sukanya Samriddhi Yojana 1500 प्रति माह क्या है?

सुकन्या समृद्धि योजना एक बचत योजना है जो भारत सरकार द्वारा शुरू की गई है और इसका मुख्य उद्देश्य “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान के तहत लड़कियों की शिक्षा और शादी के खर्चों का सहारा करना है। यह योजना भारतीय परिवारों में बेटी के भविष्य को सुरक्षित करने के लिए एक प्रभावी कदम है और इसमें आर्थिक सहारा प्रदान करने के लिए ब्याज भी शामिल है।

Leave a Reply