Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana:मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana
Contents hide
1 Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana:मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना ऑनलाइन आवेदन ,विशेषता ,उद्देश्य,पात्रता

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana:मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना ऑनलाइन आवेदन ,विशेषता ,उद्देश्य,पात्रता

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana भारत में कई क्षेत्रों में पानी की कमी की समस्या बड़ी है, जिससे नागरिकों को अनेक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। इस महत्वपूर्ण चुनौती का सामना करते हुए, राज्य और केंद्र सरकारें विभिन्न प्रकार की योजनाओं को शुरू कर रही हैं। हाल ही में, राजस्थान सरकार ने एक नई पहल की है जिसका नाम है “मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना”। इस योजना के माध्यम से, ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की न्यूनतम आवश्यकता को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा।

इस लेख के माध्यम से, आप Mukhyamantri Jal Swavlamban Yojana से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगे, जैसे कि इसका उद्देश्य, विशेषताएं, पात्रता, आवश्यक दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया, लाभ इत्यादि। यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में पानी संबंधित समस्याओं का समाधान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है और स्थानीय समृद्धि में सुधार करने में मदद कर सकती है।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana क्या है ?

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना एक महत्वपूर्ण पहल है जो राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है और इसका मुख्य उद्देश्य है ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की समस्याओं का समाधान करना। योजना के माध्यम से, न्यूनतम आवश्यकता को पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है और जल संबंधित समस्याओं का समाधान करने के लिए विभिन्न विभागों का समन्वय होगा। यह योजना जल उपलब्धता को सुनिश्चित करने के साथ-साथ, अकाल के समय में पानी की कमी को दूर करने का प्रयास करेगी।

इसके अंतर्गत, विभिन्न विभागों के समन्वय के लिए राज्य स्तर पर बजट उपलब्ध करवाया जाएगा। यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों में हरित क्रांति और जल संरक्षण को प्रोत्साहित करने का एक कदम है। इस अभियान का शुरूआती चरण 27 जनवरी 2016 को झालावाड़ जिले के गांव गर्दनखेड़ी से हुआ था और इसके माध्यम से 2016 में 3000 प्राथमिकता वाले और 3 साल तक प्रतिवर्ष 6000 गांवों को योजना के लाभार्थी बनाने का लक्ष्य रखा गया था।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana ने चार जल संकल्पों पर आधारित किया गया है – प्रयुक्त जल संरक्षण की योजना में ग्रामीण इलाकों में उपलब्ध उपवाहन का संरक्षण, जलग्रहण, उचित उपयोग, नवीकरण और नए जल संचय संरचनाओं का निर्माण। इस योजना के संचालन के लिए आम नागरिक भी किसी भी राशि का दान कर सकते हैं, जिससे सामुदायिक भागीदारी को बढ़ावा मिलता है और योजना को सफल बनाने में मदद मिलती है।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana का उद्देश्य

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना का मुख्य उद्देश्य है राजस्थान को जल स्थाई राज्य बनाना। इस योजना के द्वारा, विभिन्न विभागों और संस्थानों के सहयोग से प्रभावी जल संरक्षण को सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाएगा। योजना से प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में पीने का पर्याप्त पानी सुनिश्चित किया जाएगा और ग्रामीण इलाकों में रहने वाले नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार होगा।

इस योजना के माध्यम से प्रदेश के नागरिक सशक्त और आत्मनिर्भर बनेंगे, और इससे ग्रामीण इलाकों में रहने वालों के स्वास्थ्य में भी सुधार आएगा। इस योजना के परिणामस्वरूप प्रदेश के नागरिकों को पर्याप्त जल प्राप्त होने से हरित क्रांति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम बढ़ाएगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana की जानकारी

योजना का नाम मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना
योजना शुरू की गयी राजस्थान सरकार
योजना आरंभ तिथि 27 जनवरी 2016
राज्य राजस्थान
लाभार्थी राजस्थान के नागरिक
वर्ष 2023
उद्देश्य जल की उपलब्धता सुनिश्चित करना
आधिकारिक वेबसाइट http://mjsa.water.rajasthan.gov.in/
आवेदन का प्रकार ऑनलाइन/ऑफलाइन

 

इन योजनाओ के बारे में भी जाने

[catlist]

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana अभियान का दायरा

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana राजस्थान के गाँवों को सूखे से बचाने के उद्देश्य से, राज्य के विभिन्न विभागों और गैर सरकारी संगठनों द्वारा वॉटरशेड के तहत जल संचयन और संरक्षण कार्यों को प्रोत्साहित किया जाएगा। इसके लिए कॉरपोरेट सामाजिक जिम्मेदारी (CSR), जन सहभागिता, एनआरवी क्लब (Non-Resident Rural Club) आदि के तहत उपलब्ध धनराशि का उपयोग किया जाएगा। इस प्रयास के माध्यम से, स्थानीय समुदायों को जल संचयन के लिए सकारात्मक प्रेरणा मिलेगी और सूखे के प्रभावों से बचने के लिए सामूहिक प्रयास किया जाएगा। इसके साथ ही, बजट का उपयोग पानी के स्थाई समाधान के लिए भी होगा।

राजस्थान Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के अंतर्गत, पहले वर्ष में लगभग 3 हजार गांवों की पहचान की जाएगी, जिन्हें प्राथमिकता के आधार पर शामिल किया जाएगा। आने वाले 3 वर्षों में, प्रत्येक वर्ष लगभग 6 हजार गांवों को योजना में शामिल किया जाएगा, जिससे कुल में 21 हजार गांव इस अभियान से लाभान्वित होंगे। इस प्रयास के माध्यम से, योजना द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों को आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जा रहा है, और इन गांवों को स्थाई रूप से पानी की सुविधा प्रदान की जाएगी। शेष ग्रामीण क्षेत्रों को भी प्राथमिकता सूची के अनुसार चरबद्ध तरीके से कार्यों को क्रियान्वित किया जाएगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana लाभ तथा विशेषताएं

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना एक प्रशासनिक पहल है जो राजस्थान सरकार द्वारा शुरू की गई है और इसके माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों को कई अभावों से मुक्ति मिलेगी।

  1. पानी की आवश्यकता का पूर्ति: योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की न्यूनतम आवश्यकता को पूरा करने का प्रयास किया जाएगा, जिससे गांवों में प्रतिस्पर्धी जल सबस्ता बना रहेगा।
  2. जल उपलब्धता में सुधार: योजना के अंतर्गत जल उपलब्धता में सुधार होगा, जिससे गांवीयों को साफ, सुरक्षित और स्थायी जल स्रोत मिलेगा।
  3. अकाल के दौरान समस्याओं का समाधान: Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana से गांवों में अकाल के दौरान जल संकट से संबंधित समस्याओं का समाधान किया जाएगा, जिससे कृषि और जनसंख्या को नुकसान नहीं होगा।
  4. विभिन्न विभागों का समन्वय: योजना के लाभ को प्राप्त करने के लिए विभिन्न विभागों के समन्वय का सुनिश्चित होगा, जिससे योजना का समृद्धिपूर्ण संचालन होगा।
  5. राज्य स्तर पर बजट का उपयोग: योजना के लिए विभिन्न विभागों के समन्वय और राज्य स्तर पर बजट उपलब्ध करवाने के माध्यम से इसे सफलता प्राप्त करने में सहायता मिलेगी।
  6. प्रारंभ का तिथि: Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana का प्रारंभ 27 जनवरी 2016 को झालावाड़ जिले के गांव गर्दनखेड़ी से किया गया था, जिससे इसे आदर्श के रूप में स्थापित किया गया है।
  7. गांवों को लाभ: इस अभियान के माध्यम से 2016 में 3000 प्राथमिकता वाले गांवों को और 3 साल तक प्रतिवर्ष 6000 गांवों को लाभ वंती करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है, जिससे इन गांवों में जल संबंधित समस्याओं का समाधान होगा।
  8. चार जल संकल्पों पर आधारित: योजना 2023 को चार जल संकल्पों पर आधारित है, जो ग्रामीण इलाकों में जल संरक्षण की योजना में उपलब्ध उपवाहन का संरक्षण, जलग्रहण, उचित उपयोग, नवीकरण, और नए जल संचय संरचनाओं को समाहित करते हैं।
  9. आम नागरिकों की सहयोगिता: योजना के संचालन के लिए आम नागरिकों को भी किसी भी राशि का दान करने की सुविधा है, जिससे सामाजिक सहयोग एवं समर्थन में वृद्धि होगी।
  10. जल संरक्षण में नए उपाय: योजना ने ग्रामीण क्षेत्रों में जल संरक्षण के लिए नए उपायों को समर्थित किया है, जिससे जल संसाधन का सही और अधिक प्रभावी उपयोग होगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के चरण

अब तक, सरकार ने Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana 2023 के चार चरणों का संचालन किया है, जो इस प्रकार हैं।

प्रथम चरण:इस अभियान के पहले चरण में, चयनित गांवों में पारंपरिक जल संरक्षण प्रणालियों का निर्माण हुआ है। तालाबों, टैंकों, और नई टंकियों का निर्माण करके गांववालों को सुरक्षित और पूर्ण जल सुरक्षा की सुविधा प्रदान की गई है। इस पहले चरण में, राजस्थान के 295 पंचायत समितियों के 3529 गांवों में 95192 कार्य पूर्ण किए गए हैं।

दूसरे चरण:इस अभियान का दूसरा चरण 9 दिसंबर 2016 को शुरू हुआ था। इस चरण में, 4213 गांवों में लगभग 130393 जल संरक्षण कार्य पूरे किए गए हैं। इसके साथ ही, इस अभियान ने 6 शहरों को भी शामिल किया है।

तीसरे चरण:Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के तीसरे चरण में, 4314 गांवों में 156152 जन संरक्षण कार्यों को सफलतापूर्वक पूरा किया गया। इस साथ, लगभग 148 लाख पौधे भी लगाए गए थे। इस प्रयास के परिणामस्वरूप, तीनों चरणों में लगभग 12056 गांवों में 381737 कार्य पूरे किए गए हैं।

चौथे चरण:इस अभियान का चौथा चरण 3 अक्टूबर 2018 को आरंभ किया गया था। इस चरण में, 3963 गांवों में 1.80 लाख कार्यों को पूरा करने का लक्ष्य था।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के इंस्टिट्यूशन अरेंजमेंट

  • स्टेट रूरल वॉटर कंजर्वेशन मिशन
  • स्टेट लेवल डायरेक्शनल कमिटी
  • डिस्ट्रिक्ट लेवल मॉनिटरिंग कमिटी
  • स्टेट लेवल टास्क ग्रुप
  • डिस्टिक लेवल कमिटी
  • ब्लॉक लेवल कमिटी
  • विलेज लेवल कमिटी टू प्रिपेयर एक्शन प्लान

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के Statistics

 टोटल विलेजस कवर्ड  23653
 टोटल वर्क  681142
 टोटल डोनेशन  673083183

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के अंतर्गत प्राथमिकता सूची

  1. IWMP/अन्य वॉटर शेड परियोजना आदि स्वीकृत गांव: ये वह गांव हैं जो IWMP (Integrated Watershed Management Programme) या अन्य वॉटर शेड परियोजनाएं स्वीकृत कर चुके हैं, जिनका उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक विकास के साथ-साथ पानी की सुरक्षा है।
  2. पीने का योग्य पानी उपलब्ध नहीं है यार और फ्लोराइड की मात्रा अधिक है: Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के इस वर्ग में वह गांव शामिल हैं जहां पीने का उचित पानी उपलब्ध नहीं है और फ्लोराइड की मात्रा अधिक हो सकती है, जिससे जनसंख्या को स्वस्थ जीवन जीने में कठिनाई हो सकती है।
  3. गत 5 वर्षों के दौरान टैंकरों से पेयजल आपूर्ति किई गई है: इस वाणी से साफ है कि ये गांव उन स्थानों में शामिल हैं जहां पिछले पाँच वर्षों से लगातार टैंकरों के माध्यम से पेयजल की आपूर्ति हो रही है।
  4. जिन गांवों में गत 5 वर्षों के दौरान अकाल घोषित किया गया हो: यह गांव उन स्थानों में शामिल है जिन्हें पिछले पाँच वर्षों में अकाल की स्थिति की घोषणा की गई है, जिससे जल संबंधित समस्याएं और बढ़ गई हैं।
  5. वह गांव जहां 70% कृषि भूमि वर्षा पर निर्भर करती है: यह गांव ऐसा स्थान है जहां लोगों की आजीविका का मुख्य स्रोत कृषि है और यह 70% कृषि भूमि पर वर्षा पर निर्भर करती है। इससे स्थानीय लोगों का अर्थात्मक संवर्द्धन होने की संभावना है।
  6. मुख्यमंत्री, सांसद, विधायक और अन्य योजनाओं के तहत आदर्श गांव: यह गांव विभिन्न सरकारी योजनाओं के तहत आदर्श गांव के रूप में माना जा सकता है, जिसमें मुख्यमंत्री, सांसद, विधायक, और अन्य स्थानीय नेताओं की साझेदारी हो सकती है। इससे गांव को विभिन्न विकास कार्यों के लिए समर्थन प्राप्त हो सकता है।
  7. वह गांव जो वन विभाग के क्लस्टर के अंतर्गत आते हैं: यह गांव ऐसे क्षेत्र में स्थित है जो वन विभाग के क्लस्टर के अंतर्गत आता है। इससे यह गांव वन्यजन्य संसाधनों के सुरक्षण और प्रबंधन में सक्षम हो सकता है और वन्यजन्य संरक्षण के उद्देश्यों का हिस्सा बन सकता है।
  8. योगदान देने के इच्छुक गांव: इस गांव में लोग योगदान देने के लिए उत्सुक हैं और विभिन्न सामाजिक और आर्थिक पहलुओं में योगदान करने के लिए तैयार हैं। इससे सामाजिक समृद्धि और सामाजिक अधिकार की स्थिति में सुधार हो सकता है।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

  • इसके बाद आपके सामने पूरा होम पेज खुल जायेगा।
  • इसके होम पेज पर आपको रजिस्ट्रेशन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

  • आगे आपको सिटीजन विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको मांगी गई जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • इसके बाद आपको सबमिट विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब आप अपना यूजरनेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड डालकर लॉग इन करना होगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

 

  • फिर आप राजस्थान Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के विकल्प पर क्लिक करे।
  • उसके बाद आपकी स्क्रीन पर एक नया पेज खुलेगा.
  • फिर पेज पर आपको मांगी गई सभी जानकारी दर्ज करनी होगी।
  • अब आप सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज अपलोड करे।
  • उसके बाद आपको सबमिट बटन पर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप राजस्थान मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना के तहत आवेदन कर सकेंगे।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana पोर्टल पर लॉगइन करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आप राजस्थान जल स्वालंबन अभियान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाए।
  • इसके बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • इसके बाद आपको sso लॉगिन के विकल्प पर क्लिक करना होगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

  • अब स्क्रीन पर लॉगिन फॉर्म खुल जाएगा।
  • इस फॉर्म में आपको अपना यूजरनेम, पासवर्ड और कैप्चा कोड दर्ज करना होगा।
  • उसके बाद आपको सबमिट बटन पर के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • इस तरह आप पोर्टल पर लॉगिन कर सकते हैं।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana ग्रीवेंस स्टेटस चेक करने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आप राजस्थान जल स्वालंबन अभियान की आधिकारिक वेबसाइट पर जाए।
  • इसके बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा।
  • होम पेज पर फिर आप व्यू ग्रीवेंस स्टेटस के विकल्प पर क्लिक करे ।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

  • इसके बाद आपकी स्क्रीन पर एक और नया पेज खुल कर आएगा।
  • फिर इस पेज पर आपको शिकायत की स्थिति देखे के ओप्सन पर क्लिक करे ।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana

  • उसके बाद आपको अपनी ग्रीवेंस आईडी और मोबाइल नंबर तथा कैप्चा कोड दर्ज करना है ।
  • फिर बाद में आपको चेक ग्रीवेंस के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • फिर ग्रीवेंस स्टेटस की जानकारीआपकी कंप्यूटर की  स्क्रीन पर होगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana हेल्पलाइन नंबर

आईटी बिल्डिंग, योजना भवन मुख्यालय, तिलक मार्ग, सी-स्कीम, जयपुर, राजस्थान भारत – 302005,
लैंडलाइन: 0141-2921351
ईमेल: umeshcj.doit@rajasthan.gov.in

सारांश (Summay)

तो दोस्तों, हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताया कि कैसे आप (Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana:मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना) की सभी जानकारी को विस्तार पूर्वक बता दिया है।यदि आपको जानकारी पसंद आई हो तो आप हमें मैसेज करके बता सकते हैं और इसके अलावा यदि आपको कोई भी समस्या या योजना से जुड़े सवालों के जवाब जानने हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं।हमारी टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश जरूर करेगी।

ध्यान दें :– ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट सरकारी योजनाये के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted By – Surendra Jain

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana FAOs

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana की शुरुआत कब हुई?

27 जनवरी 2016 से ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान’ की शुरुआत हुई थी, जो एक महत्वपूर्ण पहलू है जल संरक्षण और पुनर्निर्माण की दिशा में। यह अभियान गांवों में जल संचयन, सुरक्षा और समुचित उपयोग की प्रोत्साहना करने का प्रयास कर रहा है।

राजस्थान में Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana का मुख्य उद्देश्य

योजना से प्रदेश के ग्रामीण क्षेत्रों में पीने का पर्याप्त पानी सुनिश्चित किया जाएगा और ग्रामीण इलाकों में रहने वाले नागरिकों के जीवन स्तर में सुधार होगा। इस योजना के माध्यम से प्रदेश के नागरिक सशक्त और आत्मनिर्भर बनेंगे, और इससे ग्रामीण इलाकों में रहने वालों के स्वास्थ्य में भी सुधार आएगा।

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana की आवश्यकता क्यों है?

मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना का शुभारंभ राजस्थान सरकार द्वारा 27 जनवरी 2016 को किया गया है। इस योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में पानी की न्यूनतम आवश्यकता की पूर्ति, जल उपलब्धता, और अकाल के दौरान पानी के अभाव से उत्पन्न समस्याओं का निराकरण किया जाएगा। इसके लिए विभिन्न विभागों के समन्वय और राज्य स्तर के बजट का संबंधित उपयोग होगा।

Mukhyamantri Jal Swavlamban Yojana का लाभ हेतु ग्रामीण क्षेत्र कैसे कवर किये जायेंगे ?

राजस्थान सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों की प्राथमिकता सूची तैयार करने का निर्णय लिया है, जिसके माध्यम से राज्य के आमजन नागरिकों तक पानी की सुविधा पहुंचाई जाएगी।

राजस्थान राज्य में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन योजना का लाभ ग्रामीण क्षेत्रों तक कैसे पहुंचाया जा रहा है ?

Mukhyamantri Jal Swavalamban Yojana के माध्यम से राजस्थान राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में सभी ग्रामीणों को पीने का शुद्ध पानी पहुंचाने का लक्ष्य सरकार द्वारा चरणों में शुरू किया गया है।

Leave a Reply