Pm Daksh Yojna – प्रधानमंत्री दक्ष और कुशलता सम्पन्न हितग्राही (पीएम-दक्ष) योजना

Pm Daksh Yojna (प्रधान मंत्री दक्ष योजना)
Pm Daksh Yojna (प्रधान मंत्री दक्ष योजना)
Contents hide

Pm Daksh Yojna – प्रधानमंत्री दक्ष और कुशलता सम्पन्न हितग्राही (पीएम-दक्ष) योजना आवेदन. पात्रता. लाभ एवं जानकारी 

Pm Daksh Yojna – प्रधानमंत्री दक्ष और कुशलता सम्पन्न हितग्राही (पीएम-दक्ष) योजना एक पहल है जो भारत सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य भारतीय नागरिकों को उनके आर्थिक विकास और सामाजिक उत्थान में सक्षम बनाना है ताकि वे आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बन सकें। इस योजना के अंतर्गत विभिन्न क्षेत्रों में तकनीकी और कौशल शिक्षा प्रदान की जाती है ताकि लोग अपने आवास, व्यापार या किसी भी अन्य क्षेत्र में अधिक उत्कृष्टता और प्रभाव से काम कर सकें। इसके साथ ही योजना में भारत सरकार द्वारा आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाती है ताकि लोग अपने कौशल विकास के लिए आवश्यक सामग्री खरीद सकें और अपने उत्थान के लिए आवश्यक कदम उठा सकें।

Pm Daksh Yojna क्या है ?

Pm Daksh Yojna – प्रधान मंत्री दक्ष योजना भारत सरकार द्वारा चलाई जा रही एक योजना है जो मुख्य रूप से युवाओं को तकनीकी शिक्षा और कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य भारतीय युवा वर्ग को उनके रोजगार संबंधित जीवन में सशक्त बनाना है। इस योजना के तहत विभिन्न राज्यों में कौशल विकास के कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं जिनमें युवाओं को तकनीकी और व्यावसायिक शिक्षा प्रदान की जाती है साथ ही उन्हें रोजगार के अवसरों तक पहुँचाने का प्रयास किया जाता है।

इस योजना के अंतर्गत युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जाता है जैसे कि सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, हार्डवेयर इंजीनियरिंग, डिज़ाइनिंग, ऑपरेशनल एक्सीलेंस, औद्योगिक योजनाएं आदि। इसके माध्यम से सरकार की यह पहल भारतीय नागरिकों के सामाजिक और आर्थिक विकास को समर्थ बनाने का प्रयास करती है। इस योजना के माध्यम से सरकार का यह प्रयास है कि युवाओं को न केवल कौशल विकसित किया जाए बल्कि उन्हें उत्तराधिकारी रोजगार के लिए तैयार भी किया जाए। इसके साथ ही युवाओं को विभिन्न रोजगार संबंधित क्षेत्रों में अवसरों की जानकारी और पहुंच प्रदान की जाती है।

Pm Daksh Yojna – पीएम-दक्ष योजना के तहत की गई धनराशि का संदर्भ लेते हुए इसके प्रमुख उद्देश्यों और लाभार्थियों पर चर्चा हो रही है। इस योजना के माध्यम से लक्षित समूहों को सामाजिक और आर्थिक रूप से सशक्त बनाने का प्रयास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री द्वारा उद्घाटित ‘पीएम-दक्ष’ पोर्टल और मोबाइल ऐप के माध्यम से लक्षित समूहों के व्यक्तियों को कौशल विकास के लिए सहायता प्रदान की जा रही है।

इस योजना के माध्यम से सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने अनुसूचित जाति, अन्य पिछड़ा वर्ग, आर्थिक रूप से पिछड़ा वर्ग, विमुक्त जनजातियाँ, और सफाई कर्मचारियों के लिए कौशल विकास योजनाओं को सुलभ बनाने का प्रयास किया है। इसके माध्यम से लाभार्थियों को अधिक आत्मनिर्भर बनाने का उद्देश्य है।

इस पोर्टल और एप के द्वारा लाभार्थियों को विभिन्न कौशल विकास कार्यक्रमों और सरकारी योजनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त करने और उनके लिए आवेदन करने की सुविधा प्राप्त हो रही है। इससे सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोगों को नई संभावनाओं का मार्ग प्राप्त हो रहा है और उन्हें समृद्धि की ओर अग्रसर किया जा रहा है।

Pm Daksh Yojna (प्रधान मंत्री दक्ष योजना) की सम्पूर्ण जानकारी

प्रधानमंत्री दक्ष योजना” भारत सरकार की एक पहल है जो युवाओं को तकनीकी और कौशलिक प्रशिक्षण प्रदान करके उन्हें रोजगारी के अवसरों में सक्षम बनाने का उद्देश्य रखती है। इस योजना के तहत युवा वर्ग को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण दिया जाता है जैसे कि विज्ञान, विकास, औद्योगिक और सामाजिक क्षेत्र में। इसके साथ ही योजना उन्हें उच्च गुणवत्ता वाले रोजगार के अवसरों के लिए तैयार करती है।

इस योजना के कुछ मुख्य विशेषताएँ निम्नलिखित हैं:-

  1. प्रशिक्षण कार्यक्रम: युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों में प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है जिनमें सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट, हार्डवेयर इंजीनियरिंग, डिज़ाइनिंग, ऑपरेशनल एक्सीलेंस, औद्योगिक योजनाएं और अन्य क्षेत्र शामिल हैं।
  2. रोजगार का प्रोत्साहन: योजना उन युवाओं को रोजगार के अवसरों की जानकारी और पहुंच प्रदान करती है जो उपलब्ध होते हैं।
  3. आर्थिक सहायता: युवाओं को उनके कौशल विकास के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है ताकि वे प्रशिक्षण के लिए आवश्यक सामग्री खरीद सकें।
  4. प्रोजेक्ट्स और ट्रेनिंग बैचेस: योजना के अंतर्गत युवा वर्ग को विभिन्न प्रोजेक्ट्स और ट्रेनिंग बैचेस में भाग लेने का मौका भी प्रदान किया जाता है।
  5. ऑनलाइन पोर्टल: योजना का अनुदेशन और आवेदन प्रक्रिया को ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से संचालित किया जाता है।
  6. सर्टिफिकेशन और प्रोत्साहन: प्रशिक्षण पूरा करने पर युवाओं को सर्टिफिकेट और प्रोत्साहन प्रदान किया जाता है जो उन्हें रोजगार करने के लिए अधिक पात्र बनाता है।

यह योजना भारतीय युवा वर्ग को उत्तराधिकारी रोजगार के लिए सजग बनाने का प्रयास है और उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का माध्यम है।

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) के लिए जरूरी दिशा निर्देश

प्रधानमंत्री दक्ष योजना” के लिए दिशानिर्देश निम्नलिखित हो सकते हैं:

  1. पंजीकरण: इच्छुक युवाओं को ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। पंजीकरण प्रक्रिया योजना के आधिकारिक वेबसाइट या पोर्टल के माध्यम से किया जा सकता है।
  2. योजना का चयन: पंजीकृत उम्मीदवारों में से उच्चतम गुणवत्ता वाले उम्मीदवारों का चयन किया जाएगा। चयन प्रक्रिया विभिन्न मानकों और मापदंडों के आधार पर किया जाएगा।
  3. प्रशिक्षण: चयनित युवाओं को उनके चुने गए क्षेत्र में प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। प्रशिक्षण कार्यक्रम अनुसार विभागों द्वारा संचालित किया जाएगा।
  4. समर्थन और प्रोत्साहन: प्रशिक्षण के दौरान युवाओं को आवश्यक समर्थन और प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा। इसमें आर्थिक सहायता, सामग्री प्रदान, और अन्य संबंधित सुविधाएं शामिल हो सकती हैं।
  5. प्रगति की निगरानी: प्रशिक्षण के दौरान उम्मीदवारों की प्रगति को निगरानी की जाएगी। उन्हें अपने कौशलों को सही रूप से विकसित करने के लिए उचित मार्गदर्शन और सहायता प्रदान की जाएगी।
  6. सर्टिफिकेशन और रोजगार प्लेसमेंट: प्रशिक्षण पूरा करने के बाद उम्मीदवारों को सरकार द्वारा सर्टिफिकेट भी प्रदान किया जाएगा और उन्हें रोजगार प्लेसमेंट में मदद की जाएगी।
  7. प्रतिबद्धता: योजना के तहत सरकार और संबंधित संस्थाओं को योग्य और सक्षम प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध होना चाहिए।

इन दिशानिर्देशों के अनुसार “प्रधानमंत्री दक्ष योजना” का प्रयोजन है युवाओं को अधिक सक्षम और आत्मनिर्भर बनाने में मदद करना।

 प्रशिक्षण के प्रकार,अवधि और प्रति उम्मीदवार औसत लागत के बारे में जानकारी निम्नलिखित है:

  1. कौशल उन्नयन (35 से 60 घंटे/5 दिन से 35 दिन) : इस प्रकार के प्रशिक्षण की अवधि 35 से 60 घंटे तक होती है और यह 5 दिन से 35 दिन तक चलता है। इसकी औसत लागत रुपये 3000 से 8000 तक होती है।
  2. अल्पावधि प्रशिक्षण (300 घंटे /3 महीने): इस प्रकार के प्रशिक्षण की अवधि 300 घंटे या 3 महीने होती है और इसकी लागत रुपये 22,000 होती है।
  3. उद्यमिता विकास कार्यक्रम (90 घंटे/15 दिन): इस प्रकार के प्रशिक्षण की अवधि 90 घंटे या 15 दिन होती है और इसकी लागत रुपये 7000 होती है।
  4. दीर्घकालिक प्रशिक्षण (650 घंटे / 7 महीने): इस प्रकार के प्रशिक्षण की अवधि 650 घंटे या 7 महीने होती है और इसकी लागत रुपये 45,000 होती है।

प्रशिक्षण की लागत कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय द्वारा जारी सामान्य मानदंडों के अनुसार है;

पाठ्यक्रम की अवधि के अनुसार इसमें परिवर्तन होता रहता है। कचरा बीनने वालों सहित सफाई कर्मचारियों के लिए कौशल उन्नयन 35 घंटे/5 दिनों के लिए है इसकी औसत लागत प्रति उम्मीदवार 3000 रुपये है।

प्रशिक्षुओं का प्रशिक्षण निशुल्क है। इस योजना के अंतर्गत अनुसूचित जातियों और सफाई कर्मचारियों को 1,500 रुपये प्रति माह और अन्य पिछडे़ वर्गों/ईबीसी/डीएनटी को गैर-आवासीय अल्पकालिक और दीर्घकालिक प्रशिक्षण पाठ्यक्रमों के लिए 1,000 रुपये प्रति माह का वजीफा दिया जाता है और कौशल/कौशल उन्नयन/कौशल कार्यक्रम के लिए अनुसूचित जाति/अन्य पिछड़ा वर्ग/ईबीसी/डीएनटी उम्मीदवारों को प्रति उम्मीदवार 2500 रुपये का वेतन मुआवजा दिया जाता है। कौशल उन्नयन कार्यक्रम के लिए सफाई कर्मचारी उम्मीदवारों को प्रति उम्मीदवार 500 रुपये का वेतन मुआवजा दिया जाता है।

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) का महत्त्व:

  1. न्यूनतम आर्थिक संपत्ति: बहुत से लक्षित समूहों के व्यक्तियों के पास केवल न्यूनतम आर्थिक संपत्ति होती है। इसलिए इन समूहों के आर्थिक सशक्तिकरण और उनकी कौशलों का विकास के लिए प्रशिक्षण का प्रावधान करना अत्यंत महत्वपूर्ण है।
  2. कारीगरों की ग्रामीण श्रेणी की सहायता: बहुत से लक्षित समूहों के व्यक्तियों का गांवों में कारीगर होते हैं, जो बाजार में बेहतर तकनीकों के आगमन के कारण शहरों में निवास करते हैं। उनकी कौशलों का विकास और प्रशिक्षण उन्हें आर्थिक उत्थान में मदद कर सकता है।
  3. महिलाओं का सशक्तिकरण: अधिकांश महिलाएं अपनी घरेलू मजबूरियों के कारण नौकरी करने या रोजगार में शामिल नहीं हो पाती हैं। उन्हें आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए सशक्त बनाने के लिए, उनकी कौशलों का विकास और प्रशिक्षण महत्वपूर्ण है।

इन सभी क्षेत्रों में प्रशिक्षण का प्रावधान उन लक्षित समूहों के विकास और समृद्धि में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) का कार्यान्वयन कौन करता है :

यह कार्य मंत्रालय के तहत तीन निगमों द्वारा कार्यान्वित किया जाता है:

  1. राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त और विकास निगम (NSFDC)
  2. राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग वित्त एवं विकास निगम (NBCFDC)
  3. राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी वित्त और विकास निगम (NSKFDC)

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) में लक्षित समूहों के कौशल विकास प्रशिक्षण की स्थिति:

पिछले 5 वर्षों में लक्षित समूहों के 2,73,152 लोगों को कौशल विकास प्रशिक्षण दिया गया है। वर्ष 2021-22 के दौरान इन तीनों निगमों के माध्यम से लक्षित समूहों के लगभग 50,000 लोगों को कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इससे सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के लोगों की रूझान की ओर साक्षात्कार होता है।

वर्ष 2021-22 के दौरान, तीनों निगमों के माध्यम से लक्षित समूहों के लगभग 50,000 लोगों को कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। यह प्रयास उन लोगों को आत्मनिर्भर बनाने और उनके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लाने के लिए किया गया है जो सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर हैं।

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) की अहर्ता :

इस योजना के लाभार्थी निम्नलिखित वर्गों से होते हैं:

  1. अनुसूचित जाति (SC)
  2. अन्य पिछड़ा वर्ग (OBC)
  3. आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग
  4. विमुक्त जनजाति
  5. कचरा बीनने वाले
  6. हाथ से मैला ढोने वाले
  7. ट्रांसजेंडर
  8. और अन्य समान श्रेणियों के हाशिये पर रहने वाले व्यक्ति।

इन सभी वर्गों के लोग इस योजना से लाभान्वित हो सकते हैं और उन्हें कौशल विकास प्रशिक्षण प्राप्त करने का अवसर मिल सकता है।

आवेदन प्रक्रिया ऑनलाइन है और निम्नलिखित चरणों के माध्यम से किया जा सकता है:

  1. चरण 1: पीएम दक्ष योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं ।
  2. चरण 2: होमपेज पर “उम्मीदवार पंजीकरण” विकल्प पर क्लिक करें।
  3. चरण 3: आवेदन पत्र पृष्ठ स्क्रीन पर प्रदर्शित होगा।
  4. चरण 4: आवश्यक विवरण दर्ज करें (नाम, पिता / पति का नाम, जन्म तिथि, लिंग, राज्य, जिला, शैक्षिक योग्यता, श्रेणी, स्थान, मोबाइल नंबर आदि) और अपनी तस्वीर अपलोड करें।
  5. चरण 5: आपको अपने मोबाइल नंबर पर भेजे गए OTP (एक बार का पासवर्ड) को दर्ज करना होगा।
  6. चरण 6: OTP बॉक्स में ओटीपी दर्ज करें।
  7. चरण 7: “नेक्स्ट स्टेप” के विकल्प पर क्लिक करें।
  8. चरण 8: प्रशिक्षण विवरण दर्ज करें।
  9. चरण 9: “नेक्स्ट” पर क्लिक करें।
  • चरण 10: अपने बैंक खाते का विवरण दर्ज करें।
  • चरण 11: अंतिम रूप से, “सबमिट” बटन पर क्लिक करें।

इस प्रकार आप पीएम दक्ष योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Pm Daksh Yojna (पीएम दक्ष योजना) के आवश्यक दस्तावेज़ निम्नलिखित हैं:

  1. अनुसूचित जाति से संबंधित व्यक्तियों के लिए:
    • राज्य सरकार के सक्षम प्राधिकारी द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र।
  2. अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के लिए:
    • राज्य सरकार के उपयुक्त प्राधिकारी द्वारा जारी ओबीसी प्रमाण पत्र।
    • राज्य सरकार के उपयुक्त प्राधिकारी द्वारा जारी किया गया ₹ 3,00,000 प्रति वर्ष से कम का आय प्रमाण पत्र या उचित सरकार द्वारा परिभाषित राजपत्रित अधिकारी द्वारा स्व-प्रमाणित और विधिवत समर्थन।
  3. आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों (ईबीसी) के लिए:
    • राज्य सरकार के उपयुक्त प्राधिकारी द्वारा जारी किया गया प्रति वर्ष ₹ 1,00,000 से कम का आय प्रमाण पत्र या उचित सरकार द्वारा परिभाषित राजपत्रित अधिकारी द्वारा स्व-प्रमाणित और विधिवत समर्थन।
  4. वि-अधिसूचित, घुमंतू और अर्ध-घुमंतू जनजाति (डीएनटी) के लिए:
    • समुदाय/क्लस्टर के स्थानीय प्रधान द्वारा समर्थन के साथ उम्मीदवार की अपनी विशिष्ट जाति, जन्मतिथि और पते की स्व-घोषणा।
  5. ट्रांसजेंडर (टीजी) समुदाय के लिए:
    • राष्ट्रीय पोर्टल (https://transgender.dosje.gov.in/) के माध्यम से जारी प्रमाण पत्र और आईडी कार्ड।
  6. सफाई कर्मचारी (कचरा बीनने वालों सहित) और उनके आश्रित:
    • व्यवसाय प्रमाणपत्र।

कृपया ध्यान दें कि आय प्रमाण पत्र के मामले में जन प्रतिनिधियों, ग्राम प्रधान, सरपंच, पार्षद, नोटरी आदि द्वारा समर्थन स्वीकार्य नहीं होगा। इसके अलावा, गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) कार्ड और अंत्योदय अन्न योजना (एएवाई) कार्ड भी लाभार्थी की वार्षिक पारिवारिक आय रुपये के अनुरूप प्रमाण के रूप में स्वीकार्य होंगे।

FAQ’s

पीएम दक्ष योजना कब शुरू की गई थी ?

प्रधानमंत्री दक्ष योजना (PM Daksh Yojana) का शुभारंभ भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 19 अगस्त 2021 को किया गया था। यह योजना प्रशिक्षण प्रदान करने के माध्यम से विशेष रूप से अछे प्रदर्शन करने वाले युवाओं को उनकी नौकरी ढ़ुंढने में मदद करने के लिए शुरू की गई है। इसका मुख्य उद्देश्य युवाओं को रोजगार के अवसरों के साथ संबंधित कौशल और प्रशिक्षण प्रदान करना है।

PM दक्ष योजना क्या है ?

प्रधानमंत्री दक्ष योजना (PM Daksh Yojana) भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक पहल है जो कौशल विकास और रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने के लिए है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य उन युवाओं को प्रशिक्षित करना है जो अछे प्रदर्शन करते हैं लेकिन रोजगार नहीं मिलने से  समस्या का सामना कर रहे हैं। यह योजना उन युवाओं को लक्ष्यार्थ बनाती है जो अपने कौशलों को विकसित करके नौकरी या उद्यमिता के लिए स्वायत्तता प्राप्त करना चाहते हैं। इसके अंतर्गत युवाओं को अनुकूलित कौशल प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है ताकि वे उद्योगों और व्यवसायों में सफलता प्राप्त कर सकें। इसके माध्यम से सरकार प्रगति को बढ़ावा देने और युवा जनशक्ति को विकसित करने का प्रयास कर रही है।

 सारांश (Summay)

तो दोस्तों हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से Pm Daksh Yojna – प्रधानमंत्री दक्ष और कुशलता सम्पन्न हितग्राही (पीएम-दक्ष) योजना की सभी जानकारी को विस्तार पूर्वक बता दिया है। यदि आपको जानकारी पसंद आई हो तो आप हमें मैसेज करके बता सकते हैं और इसके अलावा यदि आपको कोई भी समस्या या योजना से जुड़े सवालों के जवाब जानने हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं।हमारी टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश जरूर करेगी।

ध्यान दें :– ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट सरकारी योजनाये के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद…

Posted By – Surendra Jain

Leave a Reply