MGNREGA New Update 2024 : अब आधार के साथ जोड़ा जाएगा मनरेगा पेमेंट, सरकार लाने जा रही ये नया नियम

MGNREGA New Update 2024
MGNREGA New Update 2024

MGNREGA New Update 2024: मनरेगा पेमेंट्स के लिए आधार लिंकिंग अनिवार्य, सरकार का नया नियम

MGNREGA New Update 2024 मनरेगा मजदूरों के लिए अच्छी खबर :- यदि आप भी एक मनरेगा मजदूर हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है कि अब आपकी मनरेगा की मजदूरी का पैसा बिना किसी गड़बड़ी के सीधे आपके बैंक खाते में जमा होगा। इस लेख में हम आपको विस्तार से MGNREGA New Update 2024 के बारे में बताएंगे

इस लेख में हम आपको न केवल MGNREGA New Update 2024 के बारे में जानकारी देंगे बल्कि हम आपको MGNREGA के तहत होने वाली हाजिरी की नई व्यवस्था के बारे में भी विस्तार से बताएंगे।

MGNREGA New Update 2024 – अब आधार कार्ड से मिलेगा मनरेगा का पैसा 

इस आर्टिकल की मदद से हम आप सभी मनरेगा मजदूरों को केंद्र सरकार द्वारा जारी MGNREGA New Update 2024 के बारे में जानकारी देना चाहते हैं। इसके प्रमुख बिंदु कुछ इस प्रकार से हैं:

  1. आधार कार्ड से भुगतान :
    • अब मनरेगा के तहत मजदूरी का पैसा सीधे आधार कार्ड से लिंक किए गए बैंक खाते में जमा होगा।
    • यदि आपका बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक नहीं है तो आपको मनरेगा का पैसा नहीं मिलेगा।
  2. नई भुगतान प्रणाली :
    • MGNREGA के तहत अब मजदूरी का भुगतान आधार आधारित भुगतान मोड (Aadhaar Based Payment System – ABPS) के माध्यम से किया जाएगा।
    • इससे भुगतान में होने वाली गड़बड़ियों को रोका जा सकेगा और पारदर्शिता सुनिश्चित होगी।
  3. हाजिरी की नई व्यवस्था :फेस रीडिंग
    • अब हाजिरी के लिए फेस रीडिंग की नई व्यवस्था लागू की जा रही है जिससे श्रमिकों की उपस्थिति सही और पारदर्शी तरीके से रिकॉर्ड हो सके।

MGNREGA New Update 2024 नई भुगतान विधि : आधार आधारित भुगतान मोड

अब MGNREGA के तहत मजदूरी का भुगतान सीधे आधार आधारित भुगतान मोड (Aadhaar Based Payment Mode) के माध्यम से किया जाएगा जिससे भुगतान में होने वाली किसी भी गड़बड़ी को रोका जा सके। ग्रामीण विकास मंत्रालय ने राज्यों को सूचित किया है कि मौजूदा आधार-आधारित वेतन भुगतान प्रणाली बंद कर दी जाएगी और इसकी समय सीमा आगे नहीं बढ़ाई जाएगी। अब मनरेगा पेमेंट्स को आधार से जोड़ने का नया नियम लागू होने जा रहा है।

मंत्रालय ने पहले 31 मार्च तक नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस (NACH) के माध्यम से ABPS और सामान्य इलेक्ट्रॉनिक भुगतान दोनों को जारी रखने की अनुमति दी थी जिसे अब बढ़ाकर 30 जून कर दिया गया है। इस योजना को 2017 में आंशिक रूप से लागू किया गया था। एक अधिकारी ने बताया कि केंद्र सरकार ने 1 जुलाई से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (MGNREGS) के तहत मजदूरी भुगतान के लिए आधार-आधारित भुगतान प्रणाली (ABPS) को अनिवार्य करने का निर्णय लिया है और इस बारे में राज्यों को सूचित किया गया है।

सूत्रों के अनुसार ग्रामीण विकास मंत्रालय ने राज्यों को सूचित किया है कि 30 जून के बाद मौजूदा आधार-आधारित वेतन भुगतान प्रणाली बंद कर दी जाएगी और इसकी समय सीमा अब और आगे नहीं बढ़ाई जाएगी। 1 फरवरी से पूरी तरह से एबीपीएस (Aadhaar Based Payment System) में स्विच करने के निर्देश के कारण कार्यकर्ताओं और श्रमिकों ने विरोध किया था क्योंकि तकनीकी समस्याओं के चलते कई श्रमिकों को भुगतान से वंचित रहना पड़ा था।

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा स्थापित नेशनल ऑटोमेटेड क्लियरिंग हाउस (NACH) एक फंड-क्लियरिंग प्लेटफॉर्म है जो इलेक्ट्रॉनिक रूप से आवर्ती इंटरबैंक लेनदेन की सुविधा प्रदान करता है। ABPS फंड ट्रांसफर के लिए लाभार्थियों की पहचान करने के लिए आधार संख्या का उपयोग करता है जबकि NACH उनके बैंक खाते के विवरण का उपयोग करता है।

MGNREGA New Update 2024 : ABPS के माध्यम से हुआ इतना भुगतान

अधिकारियों के अनुसार मार्च में 85% वेतन भुगतान ABPS (Aadhaar Based Payment System) के माध्यम से हुआ जो फरवरी में लगभग 78% था। ग्रामीण विकास मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि 2017 में ABPS को यह सुनिश्चित करने के लिए पेश किया गया था कि बैंक खाते से संबंधित समस्याओं के कारण श्रमिकों के वेतन में कोई देरी न हो। यह प्रणाली वेतन भुगतान में पारदर्शिता सुनिश्चित करती है।

राज्यों के अनुरोध पर 31 मार्च तक भुगतान मॉडल के विस्तार की घोषणा करते हुए मंत्रालय ने 19 मार्च को कहा था कि यदि लाभार्थी पहले से ही ABPS से जुड़ा हुआ है तो भुगतान केवल इस प्रणाली के माध्यम से किया जाएगा। अन्य लाभार्थियों के लिए जो अभी तक कुछ तकनीकी कारणों से ABPS से नहीं जुड़ पाए हैं उनके लिए NACH (National Automated Clearing House) प्रणाली जारी रहेगी।

MGNREGA New Update 2024 : देश में 14 .28 करोड़ सक्रिय मजदूर

आंकड़ों के अनुसार महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (MGNREGS) के तहत देश में 14.28 करोड़ सक्रिय मजदूर हैं। पिछले महीने मंत्रालय ने बताया कि इन श्रमिकों में से 95.4% का आधार नरेगासॉफ्ट में पंजीकृत किया गया था जो इस योजना के तहत सभी गतिविधियों को कैप्चर करने वाला एक ई-गवर्नेंस सिस्टम है। इनमें से 10 करोड़ से अधिक श्रमिक ABPS (Aadhaar Based Payment System) के तहत पंजीकृत किए जा चुके हैं।

MGNREGA New Update 2024 – अब हाथ में नहीं बल्कि आधार कार्ड से मिलेगा मनरेगा का पैसा

पुराने नियमों के अनुसार मनरेगा का पैसा प्रत्येक मजदूर को सीधे उनके हाथ में उनकी मजदूरी के रूप में दिया जाता था। लेकिन अब केंद्र सरकार ने मनरेगा के तहत हो रही धांधली और घपलेबाजी को रोकने के लिए नया नियम लागू किया है।

नए नियम के प्रमुख बिंदु:

  1. आधार आधारित भुगतान प्रणाली :
    • अब प्रत्येक मनरेगा मजदूर को उसकी मजदूरी का पैसा सीधे आधार कार्ड से लिंक किए गए बैंक खाते में प्रदान किया जाएगा।
    • यह नई व्यवस्था यह सुनिश्चित करेगी कि मजदूरी का पैसा सीधे मजदूरों के बैंक खाते में जाए  जिससे भ्रष्टाचार और घपलेबाजी को रोका जा सके।
  2. भ्रष्टाचार की रोकथाम :
    • इस नए नियम का उद्देश्य मनरेगा के तहत होने वाली किसी भी प्रकार की धांधली को समाप्त करना है।
    • सीधे बैंक खाते में पैसा जमा होने से किसी भी प्रकार के भ्रष्टाचार को जन्म लेने का मौका नहीं मिलेगा।
  3. पारदर्शिता और सुरक्षा :
    • नई भुगतान प्रणाली मजदूरी भुगतान में पारदर्शिता और सुरक्षा सुनिश्चित करेगी।
    • मजदूरों को उनकी मेहनत की सही मजदूरी समय पर और बिना किसी बाधा के मिलेगी।

MGNREGA New Update 2024 – फटाफट बैंक खाता करें आधार कार्ड से लिंक, वरना नहीं मिलेगा मनरेगा का पैसा

हम आप सभी मनरेगा में काम करने वाले श्रमिकों और मजदूरों को बताना चाहते हैं कि यदि आपने अपने बैंक खाते से आधार कार्ड को लिंक नहीं किया है तो आपको मनरेगा का पैसा मिलने में समस्या हो सकती है।

क्या करें:

  1. आधार लिंक करें:
    • सबसे पहले अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर अपने बैंक खाते को आधार कार्ड से लिंक करें।
    • आप अपने बैंक की वेबसाइट या मोबाइल एप के माध्यम से भी आधार लिंकिंग की प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं।
  2. आवश्यक दस्तावेज़:
    • आधार कार्ड की एक प्रति और अपने बैंक खाते से संबंधित दस्तावेज़ (जैसे पासबुक, चेकबुक) अपने साथ लेकर जाएं।
    • बैंक में जाकर आधार लिंकिंग फॉर्म भरें और आवश्यक दस्तावेज़ जमा करें।
  3. तत्काल कार्रवाई:
    • इस प्रक्रिया को जितनी जल्दी हो सके पूरा करें ताकि आपको मनरेगा का पैसा सीधे आपके बैंक खाते में मिल सके।
    • किसी भी देरी से बचने के लिए फटाफट अपने आधार कार्ड को बैंक खाते से लिंक करें।

क्यों जरूरी है:

  • भुगतान में पारदर्शिता:
    • आधार लिंकिंग से मनरेगा के तहत मजदूरी का भुगतान सीधे आपके बैंक खाते में होगा जिससे किसी भी प्रकार की धांधली और भ्रष्टाचार से बचा जा सकेगा।
  • समय पर भुगतान:
    • आधार लिंकिंग से सुनिश्चित होगा कि आपको आपकी मेहनत की मजदूरी समय पर मिले और किसी भी प्रकार की देरी से बचा जा सके।

MGNREGA New Update 2024 – अब चेहरे से होगी मनरेगा मजदूरों की हाजिरी

“ग्रामीण विकास मंत्रालय” ने मनरेगा के तहत नए अपडेट जारी किये हैं। इस नए अपडेट के अनुसार अब मजदूरों की हर दिन की हाजिरी उनके चेहरे (Face Reading) से की जाएगी। इसका मुख्य उद्देश्य हर प्रकार की गड़बड़ी को रोकना है ताकि प्रत्येक मजदूर को उसके हक का पैसा सही समय पर मिल सके और उनका उज्जवल भविष्य सुनिश्चित हो सके।

यह नया अद्यतन मनरेगा कार्यक्रम के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है। मजदूरों को उनकी हाजिरी की समायोजना में और अधिक संवेदनशीलता और पारदर्शिता प्रदान की जाएगी।

इस बदलाव के माध्यम से हम आपको मनरेगा के नवीनतम अपडेट्स के बारे में सूचित करते रहेंगे ।

FAQ’s (अक्सर पूछे जाने वाले सवाल) :-

मनरेगा पूरे भारत में कब लागू हुआ ?

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा / MNREGA) भारत में लागू एक रोजगार गारंटी योजना है जिसे2 oct 2009 को विधान द्वारा अधिनियमित किया गया।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) भारत में लागू एक प्रमुख रोजगार गारंटी योजना है। यह अधिनियम 25 अगस्त 2005 को भारतीय संसद द्वारा पारित किया गया था और 2 फरवरी 2006 को लागू हुआ। प्रारंभ में इसे 200 जिलों में लागू किया गया था।

मनरेगा के संस्थापक कौन थे ?

मनरेगा का विचार पहली बार 1991 में तत्कालीन प्रधानमंत्री पी.वी. नरसिम्हा राव द्वारा प्रस्तावित किया गया था। हालांकि उस समय इसे पूर्ण रूप से लागू नहीं किया जा सका।

मनरेगा को औपचारिक रूप से 2005 में पारित किया गया और 2006 में लागू किया गया जिसमें तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की महत्वपूर्ण भूमिका रही। इसके अलावा प्रमुख अर्थशास्त्री ज्यां द्रेज़, सामाजिक कार्यकर्ता अरुणा रॉय और निखिल डे सहित कई अन्य व्यक्तियों ने इस अधिनियम की रूपरेखा तैयार करने और इसे प्रभावी बनाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

सारांश (Summay)

तो दोस्तों, हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से (MGNREGA New Update 2024 : अब आधार के साथ जोड़ा जाएगा मनरेगा पेमेंट, सरकार लाने जा रही ये नया नियमकी सभी जानकारी को विस्तार पूर्वक बता दिया है। यदि आपको जानकारी पसंद आई हो तो आप हमें मैसेज करके बता सकते हैं और इसके अलावा यदि आपको कोई भी समस्या या योजना से जुड़े सवालों के जवाब जानने हैं तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बता सकते हैं। हमारी टीम आपके सभी सवालों का जवाब देने की कोशिश जरूर करेगी।

ध्यान दें :– ऐसे ही केंद्र सरकार और राज्य सरकार के द्वारा शुरू की गई नई या पुरानी सरकारी योजनाओं की जानकारी हम सबसे पहले अपने इस वेबसाइट सरकारी योजनाये के माध्यम से देते हैं तो आप हमारे वेबसाइट को फॉलो करना ना भूलें ।

अगर आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया है तो इसे Like और Share जरूर करें ।

इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद

Leave a Reply